Collection of Kumar Vishwas Part 4 + {Latest} Top Dr. Kumar Vishwas Famous Shayari,Poetry & Poems in Hindi

और नई शायरी पढ़ें अपनी हिन्दी एवं उर्दू भाषा में हमारे इस ब्लॉगर पर :-The spirit of ghazals-लफ़्ज़ों का खेल


Collection of Kumar Vishwas Part 4 + {Latest} Top Dr. Kumar Vishwas Famous Shayari,Poetry & Poems in Hindi और नई शायरी पढ़ें अपनी हिन्दी एवं उर्दू भाषा में हमारे इस ब्लॉगर पर :-The spirit of ghazals-लफ़्ज़ों का खेल Famous Shayari of Dr. Kumar Vishwas – Part 4 (कुमार विशवास की फेमस शायरी – 4 )

Famous Shayari of Dr. Kumar Vishwas – Part 4 (कुमार विशवास की फेमस शायरी – 4 )

एक पहाडे सा मेरी उँगलियों पे ठहरा है
तेरी चुप्पी का सबब क्या है? इसे हल कर दे

ये फ़क़त लफ्ज़ हैं तो रोक दे रस्ता इन का
और अगर सच है तो फिर बात मुकम्मल कर दे


कोई कब तक महज सोचे,कोई कब तक महज गाए
ईलाही क्या ये मुमकिन है कि कुछ ऐसा भी हो जाऐ

मेरा मेहताब उसकी रात के आगोश मे पिघले
मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ वो मुझमे घुल के सो जाऐ


तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ

तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन
तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है,  और पढ़ें

आपको यह शायरी संग्रह कैसा लगा हमें अवश्य बताएं, और जितना हो सके शेयर करे ताकि हमें प्रोत्साहन मिले ऐसी रचनाए लिखने का। आप अपने दोस्तों को भी शेयर करे सोशल मिडिया के माध्यम से नीचे दिए गए आइकॉन पर क्लिक करे धन्यवाद।


 

Advertisements