इशारों में होती मुहब्बत होती अगर अल्फाज़ो को खूबसूरती कौन देता…
पत्थर बन के रह जाता ताज़महल अगर इश्क़ इसे अपनी पहचान ना देता…

….

मुहब्बत हो जाती है यहाँ सबको मग़र हर कोई वफ़ा का सिला नही देता…

….

रोज लेकर आता हूँ एक अफ़साना मग़र अफ़सोस है कोई सिला ही नही देता…

….

मुहब्बत से रोशन है सारा ज़माना और कोई इस की निशानी तक नही देता…

….

कैसा लिखता हूँ मैं मुहब्बत के जुनूं में अपने जज़्बात काश कोई आके बता देता….

…..

सोचता हूँ पलकें बन्द करके बैठ जाऊ और रोता ही रहूँ शाम-ओ-सहर…

….

हर रंग में ढल कर देख चुका हूँ फिर भी मुहब्बत में वो मुझे सलामी नही देता…

..Kumar_Shashi®™….. 

#_तन्हा_दिल…✍Meri Qalam Mere Jazbaat♡