कहा से तुम आओगी और कौन तुम्हें बनायेगा

तुम क्या उतनी सुन्दर होगी जितना मैने गजलों मै बताया था

मन है चंचल और न्यनओ मै काजल लगया था

न्यन तुम्हरे सागर से गहरे गजलों मैने बताया था 

बोल तुम्हारे कोयल जैसे ख्वाब मै सिर्फ सुन पाया था

कहा से तुम आओगी और कौन तुम्हें बनायेगा

लगता है खुदा खुद ही चल के आएगा….

..Kumar_Shashi®™….. 

#dedicated ♡My Love♡

#_तन्हा_दिल…✍Meri Qalam Mere Jazbaat♡

Advertisements