बन के लकीर हर इक, हाथों में आ बसा है
वो मिले थे इत्तेफ़ाक़न हम हंसे थे इत्तेफ़ाक़न

अब यूं हुआ के सावन आँखों में आ बसा है

काफ़ी थे चंद लम्हे तेरे साथ के सितमगर

ये क्या किया है तूने ख़्वाबों में आ बसा है

अब तो वो ही है साहिल, तूफ़ान भी वो ही है

कुछ इस तरह से दिल की मौजों में आ बसा है

उम्मीद-ओ-हौंसला भी, रिश्ता भी है, ख़ला भी

वो ज़िंदगी के सारे नामों में आ बसा है

कुछ रफ़्ता रफ़्ता आता, मुझको पता तो चलता

वो शख़्स एक दम ही आहों में आ बसा है

उस की पहुंच गज़ब है, वो देखो किस तरह से

दिन में भी आ बसा है रातों में आ बसा है

क्या बोलता हूं ‘कुमार शशि’ के पूछती है दुनिया

वो कौन है जो तेरी बातों में आ बसा है

… कुमार शशि®™….. 

#_तन्हा_दिल…✍Meri Qalam Mere Jazbaat♡

Advertisements