​जहाँ तक याद-ए-यार आती रहेगी

फ़साने ग़म के दोहराती रहेगी…

लहू दिल का न होगा ख़त्म जब तक

मोहब्बत ज़िंदगी पाती रहेगी…

भुलाएगा ज़माना मुझ को जितना

मेरी हर बात याद आती रहेगी…

बजाता चल दिवाने साज़ दिल का

तमन्ना हर क़दम गाती रहेगी…

सँवारेगा तू जितना ज़ुल्फ़-ए-हस्ती

ये नागिन इतना बल खाती रहेगी…

जहाँ में मौत से भागोगे जितना

ये उतना बाँहें फैलाती रहेगी…

तमन्नाएँ मेरी पूरी न करना

मेरी दीवानगी जाती रहेगी..

ये दुनिया जब तलक क़ा एम है ‘कुमार’

हमारे गीत दोहराती रहेगी..

कुमार शशि….. #dedicated ♡My Love♡ #_तन्हा_दिल…✍Meri Qalam Mere Jazbaat♡

Advertisements